वजीराबाद में धर्मोपदेश(darmoprdash)part6

(या। 60 lifश्य। और 60 रूल लड़कों को परियों पर बिठाकर उनको सुनाया कि चूंकि रफी जी अब १२ बजे नहीं आते हैं, इसत्ता गे हारे तण रामह़ो जावें । यह...

0 Comments

वजीराबाद में धर्मोपदेश(darmoprdash)part4

द्याधर की समझदारी–तीन-चार पंडित उन्हीं दिनों कहीं नगर छोड़ कर ही चले गये थे। एक पंडित नगर में विशेष भद्रपुरुष और प्रसिद्ध विद्वान् हैं और एक...

0 Comments

वजीराबाद में धर्मोपदेश(darmoprdash)part5

लिखने वाला गंगाराम चोपड़ा था, परन्तु वे लिखित कागज कहीं खो गये। अबनहीं मिलते है । स्वामी और सेवक होते हैं। ४ बजे से ८ बजे तक शासार्थ होतता र...

0 Comments

वजीराबाद में धर्मोपदेश(darmoprdash)part3

किस स्थान पर स्वामी जी उतरे हुए में गह तस स्थान से जहां भाषण हुए, अत्यन् समीष का । इमे पल सतन: वहां पहुंच गए और दवार बन्द कर सीधे ।लोगों ने ...

0 Comments

वजीराबाद में धर्मोपदेश(darmoprdash)part2

एआर स्वामी जी को साथ लाकर समन वर्ष के समीप राजा फकीरउल्ला के बाग वाले कोठी की ऊपरी मंजिल वामी जी के साथ केवल कुछ पंडित, एक हिन्दुस्तानी (उत्...

0 Comments

वजीराबाद में धर्मोपदेश(darmoprdash)

दुसरे पंडित हुशन (जो उन दिनों रियासत जम्मू की किसी पाठशाला में कदाचित् उतर-भैनी में जौव रे द सामना स्वामी जी से हुआ था । प्रश्न शास्तार्थ मे...

0 Comments

साधारण(sadharn), part10

व भाटी शुदि ४, मंगलवार, संवत १९२७, तदनुसार ३० अगस्त सन १८७० को टिवाकर प्रेस में प्रकाशित कराई । वक्र पृष्ठ संख्या ३ में स्पष्ट लिखा है इस का...

0 Comments

साधारण(sadharn), part9

इस बार बिका शास्त्रार्थ के विषय से कछ सम्बन्ध न था परन्तु दयानन्द ने ये प्रश्न इस अधिडय से दिने विदित हो जाय कि उसके विपक्षी दावा य ा। वे लो...

0 Comments

साधारण(sadharn), part8

कि ईसाइयों के अवतार का अर्थात ईश्वर का अवतार वह विलकल नहीं मानता और यदि कोई ऐसे अवतार चास्तव ने हुए हैं तो वे देवताओं के अवतार थे न कि ईश्वर...

0 Comments